किसने की थी लता मंगेश्कर को मारने की कोशिश। जानिए उस से जुड़ी 10 रोचक बातें। Lata Mangeskar Facts

लता मंगेश्कर ने पहला गाना 1942 में मराठी फिल्म “किती हसाल” के लिए गयी थी जो कभी रिलीज ही नही हुई।

लता मंगेश्कर के पिता दीनानाथ मंगेशकर ड्रामा के अभिनेता और क्लासिकल गायक थे जिस से लता को संगीत के बारे में जानने का मौका मिला।

लता मंगेशकर के माता पिता ने उसका नाम हेमा  रखा था बाद में लता ने अपना नाम बदल कर लता रख ली। ये नाम उसके पिताजी के एक ड्रामा ‘भवबंधन’ के एक चरित्र लतिका से प्रेरित था।

27 जनवरी 1963 को देश के शहीदों के नाम लताजी ने रामलीला मैदान में ‘ऐ मेरे वतन के लोगो’ गीत गायी जिसे सुनकर उस टाइम के प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के आँखों मे आँसू आ गए थे।

एक बार 1963 मे किसी ने लाता को slow poison देना शुरू कर दिया था। जिसके बाद उसकी तबियत खराब हो गयी थी। वो करीब 3 दिनों तक बेड से उठ नही पा रही थी। उसे पूरी तरह से ठीक होने में करीब 10 दिन लग गए। ये जानकारी ठीक ठीक नही पता चला कि उसे किस ने मारने की कोसिस की। लेकिन ये सब घटना के दौरान उसका रसोईया(cook) बिना पगार लिए गायब हो गया।

उसने 30000 गाने 14 अलग अलग भाषाओं में गायी है जो एक रिकॉर्ड है।

1948 में फ़िल्म शहीद के निर्देशक शशिधर मुखेर्जी ने लताजी को ये कहकर रिजेक्ट कर दिया कि उसकी आवाज बहुत पतली है। उसके अगले ही साल 1949 में ‘महल’ फ़िल्म का एक गाना ‘आएगा आनेवाला’ जबरजस्त हिट हुई जिस ने लता मंगेश्कर को रातोंरात स्टार बना दिया।

लताजी संगीतकार गुलाम हैदर को अपना गॉडफादर मानती है जिसने लता मंगेश्कर के काबिलियत पर भरोसा किया।

लता मंगेश्कर इंदौर ने जन्मी और उसने करीब 16 साल वहॉं बिताई है।

1948 में लताजी लोगो के सामने पहली बार सोलापूर के नूतन थिएटर में गीत गयी उस समय उसकी उम्र मात्र 9 साल थी।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *